वन्य प्राणियों के अनछुए पहलु के लिए पधारें - http://vanprani.blogspot.com (वन्य प्राणी) पर * * * * * * * वनपथ की घटना /दुर्घटना के लिए पधारें- http://vanpath.blogspot.com (वनपथ) पर

गुरुवार, 1 जनवरी 2009

जब वन प्रमंडल पदाधिकारी ने जेहादी अंदाज दिखाया।

वन सुरक्षा समिति का गठन जेहादी अंदाज में शुरू हुआ। पुरे रेंज में गाँव - गाँव घूम कर समिति गठन का काम शुरू हुआ। अब कार्य क्षेत्र का कोई बंधन नही था। ख़ुद वन प्रमंडल पदाधिकारी अपने साथ वनपाल एवं वनरक्षी को लेकर गाँव में निकलते थे एवं समिति का गठन कर ही वापस लौटते थे।
कई मौके तो ऐसे आए की हमलोगो का मन एकदम गांव जाने का नही करता था। हमलोग तरह-तरह से वन प्रमंडल पदाधिकारी को समझाते थे की आज उस गाँव में नही जाया जा सकता है? लेकिन उनकी दिढ़ ईच्क्षा शक्ति ही थी की वे एक ही बात पर अड़ जाते थे की आख़िर वंहा गांववाले इकट्टा होंगे और हमलोगों के आने का इंतजार कर रहे होंगे। कितना भी मौसम ख़राब हो या भारी बारिश हुई हो समिति बनाने का प्रोग्राम स्थगित नही किया जा सकता था ऐसा जज्बा वे रखते थे ।
एक घटना जिहू वन समिति गठन की बताता हूँ । उस दिन आस्रायानी क्षेत्र में भारी बारिस हो रही थी, कच्चा रास्ता होने की वजह से वह पहुचना नामुमकिन था। समिति बनाने की तिथि पुर्व से ही तय थी एवं वन प्रमंडल पदाधिकारी आने वाले हैं ये बात भी प्रचारित था। नियत समय से सभी लोग पोखरिया बीट ऑफिस में उपस्थित थे एवं बारिश रुकने का इंतजार कर रहे थे लेकिन बारिश कम नही हो रही थी। समय बीतता जा रहा था इतने में वन प्रमंडल पदाधिकारी ने आदेश सुनाया की हमलोग इसी बारिश में गाँव चलेंगे क्योकि गांववाले हमलोगों का इंतजार कर रहे होंगे। इतना सुनते ही सभी कमचारियों ने एक सुर में अस्वीकार कर दिया एवं कहा की ये विना फ़ोर व्हील की पुरानी जीप वहां जा ही नही सकती है लेकिन उनकी दृढ़ता के आगे किसी की नही चली और हमलोग लक्ष की ओर चल दिये। अभी हमलोग आधे किलोमीटर ही गए थे की एक चढाई पर गाड़ी फँस गयी । भारी बारिश में हमलोग गाड़ी नीचे उतरे और चढाई पर धकेल कर जीप को ऊपर पहुचाया एवं भीगे हुए गाँव पंहुचा।
हमलोग थोड़े थके थे लेकिन जब वहां की उपस्थिति देखी तो सभी दंग रह गए। ऐसी भारी जनसमूह को देख कर एक नया जोश भर गया एवं सभा की कार्यवाही शुरू कर दी गई एक फूल मेंबर कमिटी का गठन हुआ। गाववालो के बीच इस बात की बहुत खुशी थी की इतने भारी बारिश में भी हमलोग भींगते हुए उनके गाँव में आए। बाद की सभा में इसका फायदा भी हमलोगों को मिला की एक नोटिस पर पुरा गाँव सभा स्थल पर पहुच जाता था। हमलोग भी इस जेहादी अंदाज से कही न कही प्रभावित थे। आगे - "जब दोनाईकला गाँव के हुलाश महतो ने वनसुरक्षा समिति के सदस्यों पर टांगी से जानलेवा हमला किया।"

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत रोचक और सुन्दर! आपके वन के अनुभव तो ब्लॉगजगत के लिये बहुमूल्य हो सकते हैँ।
    आपका लेखन बहुत अच्छा लगा। कृपया नियमित लिखते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नववर्ष् की शुभकामनाएं
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut sundar laga aapka anubhav sunkar..aapke next post ka intezzar rahega....

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम भाई को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं, लिखते रहें ताकि हम आपको पढ़ते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .

    कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
    http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

    उत्तर देंहटाएं
  6. नववर्ष की शुभ कामनाओं के साथ चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद ..............

    उत्तर देंहटाएं
  7. आसमाँ ने सितारों जड़ी ओढ़ के चादर
    ज़मीं का हाथ पकड़कर कहा !चलो मेरी जान
    अपनी औलाद जिसे दुनिया कहती हैं इंसान
    उसकी खुशियों के वास्ते आओ एक दुआ मांगे .
    सारे संसार की हर एक ख़ुशी उन्हें देना मेरे मौला
    उनके सपनो को ताबीर हासिल हो किसी भी हाल
    उनकी दौलत,शोहरत और इज्ज़त मे हो खूब इजाफा
    उनकी हर ख्वाहिश को साकार बनाये नया साल .
    "दीपक" देहरी पर तेरी जलाते हैं हम ऐ जगतारक
    औलादें सब कुदरत की सबको नया साल मुबारक .
    कवि दीपक शर्मा
    सर्वाधिकार सुरक्षित @कवि दीपक शर्मा
    http://www.kavideepaksharma.co.in
    http://www.shayardeepaksharma.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्मीदों-उमंगों के दीप जलते रहें
    सपनों के थाल सजते रहें
    नव वर्ष की नव ताल पर
    खुशियों के कदम थिरकते रहें।




    नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. हिन्दी ब्लॉग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है, मेरी शुभकामनायें.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।आप सब को नव वर्ष की ढेरों शुभ-कामनाएं

    प्राइमरी का मास्टर का पीछा करें


    हो सके तो अपने ब्लॉग लिस्ट में इस चिट्ठे को भी शामिल कर लें!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज का दिन ऐतिहासिक है (क्योंकि) मैं आपके ब्लाॅग पर आया हूँ।
    दरअसल......
    इधर से गुज़रा था सोचा सलाम करता चलूंऽऽऽऽऽऽऽ
    (और बधाई भी देता चलूं...)

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आप की टिप्पणी हमारे लिए बहुमूल्य है। आप के विचार स्वंय मेरे ब्लॉग पर प्रकाशित हो जाएँगे एवं आपकी बारंबारता भी दिखेगी। आप टिप्पणी नीचे बॉक्स में दे सकते है। [प्रशंसक बन कर प्रोत्साहित किजिए]

लेखों की सूची { All Post }